当前位置:首页 > आज का मैच आईपीएल

तेरी याद साथ है-8

प्रेषक : सोनू चौधरीमैंने अपनी हथेली को उसके जांघों से ऊपर सरका दिया और धीरे धीरे ज़न्नत के दरवाज़े तक पहुँचा दिया।उफ्फ्फ्फ़…इतनी गर्मी जैसे किसी धधकती हुई भट्टी पर हाथ रख दिया हो मैंने…मेरे हाथ उस जगह पर ठहर गए और मैंने उसकी चिकनी चूत को सहला दिया।“ह्म्म्मम्म…उफ्फ्फफ्फ्फ़”…प्रिया के मुँह से एक सिसकारी निकली और उसने अपने दूसरे हाथ से मेरे हाथ को पकड़ लिया।मैंने तुरंत उसकी तरफ गर्दन घुमाई और उसकी आँखों में देखने लगा। मैंने अपनी आँखों में एक विनती भरे भाव दर्शाए और उससे एक मौन स्वीकृति मांगी। उसने मदहोश होकर मेरी आँखों में देखा और अपनी जांघें बैठे बैठे थोड़ी सी फैला दी।अब मेरी हथेली ने उसकी कमसिन चूत को पूरी तरह से अपनी मुट्ठी में भर लिया और दबा दिया।“धीरे भैया”…और ये शब्द उसके मुँह से निकले जो कि उसने मुझसे सीधे सीधे कहे थे।अब मेरे बर्दाश्त की सीमा खत्म हो गई थी। मैंने अपनी गर्दन उसकी तरफ घुमाई और उसके चेहरे के बिल्कुल करीब आ गया। उसकी साँसें मुझे अपने चेहरे पर महसूस हो रही थीं। मैंने उसकी आँखों में देखते हुए धीरे से कहा,तेरीयादसाथहै”अब भी भैया ही कहोगी?”उसने एक हल्की सी मुस्कान अपने होठों पर लाई और अपने सुर्ख गुलाबी होठों को मेरे होठों पर रख दिया। हम दोनों ने अपनी आँखें बंद कर लीं और एक दूसरे के होठों का रसपान करने लगे। हमने अपनी पूरी तन्मयता से एक दूसरे को चूमना शुरू किया और सब कुछ भूल गए।मैंने अपनी जुबान धीरे से उसके होठों से होते हुए उसके मुँह के अन्दर डाल दिया। चुम्बन का कोई तजुर्बा तो था नहीं पर ब्लू फिल्मों में कई बार इस तरह से चुदाई की शुरुआत करते हुए देखा था। अपने उन्ही अनुभवों को याद करके मैं आगे बढ़ने लगा।हमारे हाथ अब भी अपनी अपनी जगह पर थे, यानि मैं प्रिया की चूत को सहला रहा था और वो मेरे लण्ड को !स्क्रीन पर अब लण्ड की चुसाई चालू हो गई थी और लड़के तथा लड़की की मुँह से तेज़ आवाजें आने लगी थीं। उस आवाज़ को सुनकर हम दोनों का जोश और बढ़ गया और हम और भी उत्तेजना में आ गए।तभी एक ज़ोरदार चीख निकली स्क्रीन पर चल रही फिल्म से। हम दोनों का ध्यान उस आवाज़ पर गया और हम एक दूसरे को चूमना छोड़ कर स्क्रीन की तरफ देखने लगे। हमने देखा कि उस लड़के ने अपना मोटा सा लण्ड उस कमसिन सी लड़की के मुँह में पूरा का पूरा डाल दिया और उसका सर अपने हाथों से पकड़ लिया था जिसकी वजह से वो बेचारी लड़की की साँस अटक गई थी।प्रिया ने जब यह देखा तो उसकी आँखें फटी रह गईं उसने जोर से मेरा लण्ड दबा दिया। मेरे मुँह से चीख निकलते निकलते रह गई।अब और बर्दाश्त नहीं कर सकता था। मैं अपनी कुर्सी से उठ गया। मेरे उठने से प्रिया के हाथों से मेरा लण्ड छूट गया और मेरा हाथ भी उसकी चूत से हट गया।मैंने कुर्सी को अपने पैरों से पीछे धकेला और प्रिया के दोनों बाजुओं को पकड़ कर उठाया। प्रिया बिल्कुल किसी लता की तरह उठकर मुझसे लिपट गई। मैंने उसे अपनी बाहों में भर लिया। प्रिया ने भी अपनी बाहें मेरे गले में डाल दी। अब हम खड़े होकर एक दूसरे को अपनी बाहों में लेकर एक दूसरे के शरीर को मसलने लगे।प्रिया की बड़ी बड़ी कोमल चूचियाँ मेरे सीने में गड़ सी गईं और मुझे बहुत मज़ा आने लगा। मैं अपने सीने को और भी ज्यादा चिपका कर उसकी चूचियों को रगड़ने लगा और अपने होंठ मैंने उसकी गर्दन पर टिका दिए।मैंने कहानियों में पढ़ा था कि लड़कियों के गर्दन और गले पर चुम्बन करने से उनकी चूत और भी गीली हो जाती है और उन्हें बहुत मज़ा आता है। मैंने अपने होठों को उसकी गर्दन पर धीरे धीरे फिरना शुरू किया। प्रिया की साँसें और भी तेज़ हो गईं और वो मचलने सी लगी। मैंने तभी अपने दोनों हाथों को उसकी पीठ पर ऊपर नीचे करना शुरू हुआ और मुझे अब यकीन हो गया की उसने सचमुच ब्रा नहीं पहनी थी।मैं यह महसूस कर जोश में आ गया और अपना हाथ आगे ले जाकर उसकी चूचियों को पकड़ लिया। जैसे ही मैंने उसकी चूचियों को दबाया उसने मेरे होठों पर अपने होठों से काट लिया।मैं मस्त होकर उसकी चूचियों का मर्दन करने लगा। क्या चूचियाँ थीं। जैसा मैं सोच रहा था उससे भी कहीं ज्यादा मस्त और अमरुद की तरह कड़ी। मैं धीरे से अपना एक हाथ नीचे करके उसके टॉप को ऊपर उठाने लगा। प्रिया को एहसास हुआ तो उसने अपने हाथ मेरे उस हाथ पर रख दिया जैसे वो नहीं चाहती हो कि मैं उसको नंगी करूँ।“रोको मत प्रिया, मैं पागल हो रहा हूँ…प्लीज मुझे देखने दो। मैं अब बर्दाश्त नहीं कर सकता !” मैंने उसको चूमते हुए कहा और अपने हाथों को ऊपर सरकाने लगा। प्रिया ने अपना हाथ हटा लिया और वापस मेरे होठों को चूमने लगी।मैंने उसकी एक चूची को बाहर निकाल लिया, कंप्यूटर की हल्की रोशनी में उसकी दुधिया चूची और उस पर किशमिश के दाने के जैसी निप्पल को देखते ही मैं बेचैन हो गया।मैंने अपना हाथ आगे बढ़ा कर लाइट जला दी। कमरे में पूरी रोशनी फ़ैल गई…प्रिया ने झट से मुझे खुद से अलग कर लिया और अपने टॉप को नीचे कर लिया।“प्लीज सोनू, लाइट बंद कर दो …मुझे शर्म आएगी…प्लीज बंद कर दो !” प्रिया जोर जोर से सांस लेते हुए मुझसे कहने लगी।“नहीं मेरी जान, प्लीज ऐसा मत करो…मुझे तुम्हारी पूरी खूबसूरती देखनी है…मैं तुम्हारे जवान जिस्म को जी भर के देखना चाहता हूँ।” मैंने प्रिया को वापस अपनी तरफ खींचते हुए कहा।प्रिया मेरी बाहों में फिर से समा गई। तभी उसकी नज़र सामने दरवाज़े पर गई… दरवाज़ा पूरा खुला हुआ था। कोई भी हमें उस हालत में देख सकता था। प्रिया ने मुझे धक्का दिया और मैं अलग हो गया। मैं समझ नहीं पाया कि क्या हुआ और उसकी तरफ देखने लगा। उसने इशारे से मुझे दरवाज़े की तरफ दिखाया तो मुझे होश आया कि मैं कितना बेवक़ूफ़ हूँ जो हर वक़्त दरवाज़ा खुला ही छोड़ देता हूँ।मैं भाग कर गया और दरवाज़ा बंद करके आया।अब तक हमें काफी देर हो चुकी थी और घड़ी में साढ़े ग्यारह बज चुके थे। मेरे मन में एक डर आया कि कहीं सिन्हा आंटी प्रिया को बुलाने न चली आयें। लेकिन उस वक़्त मुझे प्रिया की चूचियों और चूत के अलावा कुछ और नहीं सूझ रहा था। मैंने मन में सोचा कि भाड़ में जाए सब और फिलहाल इन हसीन पलों का लुत्फ़ उठाया जाये।मैं भागकर वापस प्रिया की तरफ लपका और उसको अपनी बाहों में भर कर चूम लिया। मैंने उसे दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और उसकी आँखों में देखते हुए उसके टॉप को अपने दोनों हाथों से ऊपर करने लगा। जैसे जैसे उसका टॉप ऊपर हो रहा था उसके बदन की चिकनाहट मेरे आँखों के सामने चमकने लगी थी।उसने अपना स्कर्ट अपनी नाभि से बहुत नीचे पहन रखा था इसलिए उसकी गोल हसीन नाभि दिखाई दे रही थी। मैंने उसका टॉप अब उसकी चूचियों से ऊपर तक उठा दिया और उसे पूरा उतारने लगा।“पूरा मत उतारो… कोई आ जायेगा तो मुश्किल हो जाएगी।” प्रिया ने मुझे रोकते हुए कहा।मैंने भी उसकी बात को ठीक समझा और उसके टॉप को चूचियों के ऊपर तक रहने दिया। मैंने उसको देखकर एक कातिल मुस्कान दी और अपनी नज़रें उसकी चूचियों पर लगा दी।“हम्म्म्म…क्या मस्त हैं !”…मेरे मुँह से बस इतना ही निकल पाया और मैं आँखें फाड़ फाड़ कर उसकी चूचियों का दर्शन करने लगा।“देख लो जी भर के…तुम्हारे लिए ही इन्हें आज ब्रा में कैद नहीं किया है।”..प्रिया ने एक मादक अदा के साथ अपनी दोनों चूचियों को अपने हाथों से उठा कर मुझे दिखाते हुए कहा।मैं उसकी हरकतों से हैरान था। मैं अब तक उसे नादान ही समझता था। लेकिन अब पता चल रहा था कि वो पूरी तैयार माल है और उसे लड़कों को पागल बनाना आता है।उसकी चूचियाँ मेरे दबाने की वजह से लाल हो गईं थीं और उसके निप्पल एकदम तन से गए थे। मेरी जुबान अपने आप बाहर आ गई और मैंने अपनी जुबान उसकी निप्पल पर रख दिया। उसके निप्पल का स्वाद अजीब सा था, जैसा भी था मुझे मदहोश कर रहा था। मैंने अपनी जुबान बारी बारी से उसके दोनों निप्पल पर फिराई और फिर उसे अपने होठों के बीच ले लिया और किसी चॉकलेट की तरह चूसने लगा।प्रिया को इतना मज़ा आ रहा था कि बस पूछो मत। उसकी सिसकारियाँ तेज़ होती जा रही थीं और वो मेरा सर अपने हाथों से पकड़ कर मेरे बालों में अपनी उंगलियाँ फिराने लगी।मैं अपने पूरे जोश में भर कर उसकी एक चूची को अपने हाथों से मसलने लगा और एक हाथ नीचे ले गया। मैंने सोचा की उसे दोहरा मज़ा देते हैं जैसा मैं कई ब्लू फिल्मों में देख चुका था।मैंने अपनी एक हथेली से उसकी चूत को स्कर्ट के अन्दर से ही सहलाना शुरू किया। उसने मज़े में अपनी टाँगें थोड़ी चौड़ी कर लीं ताकि मैं अच्छे से उसकी चूत को सहला सकूँ।अब मेरे दोनों हाथों में मज़े ही मज़े थे। एक हाथ उसकी चूचियों को सहला रहा था तो दूसरा उसकी योनि के गीलेपन को महसूस कर रहा था। और मुँह में तो उसका चुचूक था ही। कुल मिलाकर मैं अपने होश खोकर पूरा मज़ा ले रहा था।अब मैंने उसकी दूसरी चूची को अपने मुँह में लिया और चूसने लगा। पहले वाली चूची को अब हाथों से मसल रहा था। उसकी चूचियाँ अब अपना रंग बदल रही थीं। मतलब और भी ज्यादा लाल हो गई थीं। मैंने इतनी जोर जोर से चूसा था कि प्रिया अब दर्द से कराहने लगी थी।मैंने अब अपना ध्यान पूरी तरह से उसकी चूत पर लगाया और अपने दोनों हाथों से उसकी स्कर्ट को ऊपर उठाया। कमरे की दूधिया रोशनी ने उसकी चूत को और भी हसीन बना दिया था। चूचियों को चूस चूस कर को मैंने रस पिया था वो सब उसकी चूत देखकर सूख गया। मैंने अपने होठों पर अपनी जुबान फिराई और अपने होठों को उसकी चूत के दाने के ऊपर रख दिया।“आऊऊऊऊ…हम्मम्मम्म…सोनू…ये क्या कर रहे हो, मैं मर जाऊँगी…प्लीज ऐसा मत करो…ह्म्म्मम्म…” प्रिया की हालत एक बिन पानी की मछली की तरह हो गई और उसके पाँव कांपने लगे। उसने अपना हाथ मेरे सर पर रखा और मेरे सर को अपनी चूत पर दबा दिया मानो वो मुझे पूरा अन्दर घुसा लेना चाहती हो।जिन लड़कियों या औरतों ने अपनी चूत पहली बार चटवाई होगी उन्हें पता होगा वो एहसास।खैर, मैंने अपनी जुबान निकाल कर ऊपर से नीचे तक उसकी चूत को चाटना शुरू किया। उसकी मुनिया की दरार बंद थी, मतलब वो अब तक चुदी नहीं थी…या फिर चुद भी गई होगी…क्यूंकि उसकी हरकतें और अदाएं उस पर शक करने के लिए काफी थी।मैंने उसका स्कर्ट छोड़ कर उसके चूत को अपनी दो उँगलियों से फैला दिया और अन्दर के गुलाबी भाग को अपनी जुबान से चाटने लगा…प्रिया ने अपन स्कर्ट अब अपने हाथों से ऊपर कर दिया और सिसकारियाँ लेकर मज़े लेने लगी।“हाँ…बस ऐसे ही सोनू… ह्म्म तुमने मुझे पागल कर दिया है…हाँ…ऐसे ही चाटो…उफफ्फ्फ्फ़…और अन्दर तक चाटो…घुस जाओ पूरा मेरी चूत में…ह्म्म्म मेरे रजा…आज मुझे ज़न्नत दिखा दो…”प्रिया के मुँह से अचानक ‘चूत’ शब्द सुनकर मैं सन्न रह गया। मुझे यह उम्मीद नहीं थी कि वो इस तरह की भाषा का इस्तेमाल करेगी या वो जानती भी होगी…कसम से दोस्तों, ये लड़कियाँ सब जानती हैं…जरुरत है तो बस एक बार उन्हें छेड़ देने की ! फिर देखो…“ओह्ह्ह्हह…मां…मुझे कुछ हो रहा है सोनू…प्लीज कुछ करो…मैं मर जाऊँगी।” प्रिया ने मेरे बाल जोर से खींचते हुए मेरा मुँह अपनी योनि से हटा दिया और मेरी आँखों में देखने लगी। उसे देखकर ऐसा लग रहा था जैसे कोई भूखी शेरनी हो।मैंने उसका हाथ पकड़ा और वापस अपना मुँह उसकी चूत से लगा दिया और उसकी चूत की खुशबू लेते हुए अपना काम चालू कर दिया। उसकी आवाजें बढ़ने लगी थीं… मुझे डर लगने लगा कि कहीं कोई सुन न ले। लेकिन मैं रुका नहीं और चूत की चुसाई जारी रखी।“ह्म्म…ह्म्म… ह्ह्मम्म्म्म…और और और…हाँ…चाटो…” प्रिया की आवाज़ तेज़ हो गई और उसके पाँव और ज्यादा कांपने लगे। उसने अपना हाथ मेरे हाथों से छुड़ा कर मेरा सर पकड़ लिया और जोर जोर से अपनी चूत पर रगड़ने लगी…“आआअह्ह ह्ह…हम्मम्मम्म…बस सोनू…अब बस…” इतना कहते कहते उसने अपनी चूत से ढेर सारा पानी मेरे मुँह में छोड़ दिया।कहानी जारी रहेगी।

分享到: